Home » Posts tagged "Ancient India History"

Ancient India History Notes on “Treaty of lahore”, “लाहौर की सन्धि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

लाहौर की सन्धि Treaty of lahore लाहौर की सन्धि अंग्रेज़ों और सिक्खों के मध्य 9 मार्च, 1846 ई. को हुई थी। इस सन्धि से लॉर्ड हार्डिंग ने लाहौर के आर्थिक साधनों को नष्ट कर दिया। लाहौर की सन्धि के अनुसार कम्पनी की सेना को दिसम्बर, 1846 तक पंजाब से वापस हो जाना था, परन्तु हार्डिंग ने यह तर्क दिया कि महाराजा दलीप सिंह के वयस्क होने तक सेना का वहाँ...
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Sugoli Treaty”, “सुगौली सन्धि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

सुगौली सन्धि Sugoli Treaty सुगौली सन्धि 19वीं सदी के शुरुआती दौर में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी और नेपाल के मध्य हुई थी। यह सन्धि 4 मार्च, 1816 ई. को सम्पन्न हुई। सन्धि में यह प्रावधान था कि, काठमांडू में एक ब्रिटिश प्रतिनिधि को नियुक्त किया जायेगा। इसके साथ ही ब्रिटेन को अपनी सैन्य सेवाओं में गोरखाओं की नियुक्ति का भी अधिकार मिल गया।     1816 ई. में हुई इस सन्धि...
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Treaty of Gandhmak”, “गंडमक की संधि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

गंडमक की संधि Treaty of Gandhmak गंडमक की संधि द्वितीय अफ़ग़ान युद्ध (1878-1880 ई.) के दौरान मई 1879 ई. में भारतीय ब्रिटिश सरकार के तत्कालीन वाइसराय लॉर्ड लिटन और अफ़ग़ानिस्तान के अपदस्थ अमीर शेरअली के पुत्र याक़ूब ख़ाँ के बीच हुई थी। इस संधि के अंतर्गत याक़ूब ख़ाँ, जिसे अमीर के रूप में मान्यता दी गई थी, अपने विदेशी सम्बन्ध ब्रिटिश निर्देशन से संचालित करने, राजधानी काबुल में ब्रिटिश रेजीडेंट...
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Treaty of Udaipur”, “उदयपुर की सन्धि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

उदयपुर की सन्धि Treaty of Udaipur     उदयपुर की सन्धि 1818 ई. में हुई थी।     यह सन्धि उदयपुर के राणा और अंग्रेज़ सरकार के बीच हुई।     इस सन्धि में ईस्ट इण्डिया कम्पनी का प्रतिनिधित्व ‘सर चार्ल्स मेटकॉफ़’ ने किया था।     सन्धि की शर्तों के अनुसार उदयपुर के राणा को अंग्रेज़ों का आश्रित बनने के लिए मजबूर होना पड़ा।    
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Treaty of Poona”, “पूना की सन्धि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

पूना की सन्धि Treaty of Poona पूना की सन्धि 3 जून, 1818 ई. में पेशवा बाजीराव द्वितीय और अंग्रेज़ों के मध्य हुई थी। इस लड़ाई में पेशवा की सेना हार गई और उसका योग्य सेनापति गोखले मारा गया। सन्धि के मुख्य बिन्दु     बाजीराव द्वितीय एक क़ायर और विश्वासघाती व्यक्ति था। नाना फड़नवीस की मृत्यु के बाद वह स्वयं ही सत्ता सुख भोगने के लिए आतुर हो उठा था। नाना...
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Treaty of Amritsar”, “अमृतसर की संधि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

अमृतसर की सन्धि Treaty of Amritsar     अमृतसर की सन्धि 25 अप्रैल, 1809 ई. को रणजीत सिंह और ईस्ट इंडिया कम्पनी के बीच हुई। उस समय लॉर्ड मिण्टो प्रथम, भारत का गवर्नर-जनरल था।     इस सन्धि के द्वारा सतलज पार की पंजाब की रियासतें अंग्रेज़ों के संरक्षण में आ गईं और सतलज के पश्चिम में पंजाब राज्य का शासक रणजीत सिंह को मान लिया गया।     कश्मीर जो रणजीत सिंह...
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Surji Arjuna Ganv Treaty” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

सुर्जी अर्जुनगाँव की सन्धि Surji Arjuna Ganv Treaty     सुर्जी अर्जुनगाँव की सन्धि, 1803 ई. में अंग्रेज़ों और दौलतराव शिन्दे के बीच हुई थी।     इस सन्धि के फलस्वरूप दोनों के बीच चलने वाला युद्ध समाप्त हो गया।     सन्धि के अनुसार शिन्दे ने अपने दरबार में ब्रिटिश रेजीडेन्ट रखना स्वीकार कर लिया और बसई की सन्धि को स्वीकार किया।     शिन्दे ने निज़ाम के ऊपर अपने सारे दावे त्याग...
Continue reading »

Ancient India History Notes on “Treaty of Devgaon”, “देवगाँव की संधि” History notes in Hindi for class 9, Class 10, Class 12 and Graduation Classes

देवगाँव की संधि Treaty of Devgaon देवगाँव की संधि अथवा ‘देवगढ़ की संधि’ 17 दिसम्बर, 1803 ई. को रघुजी भोंसले और अंग्रेज़ों के बीच हुई थी। द्वितीय मराठा युद्ध के दौरान आरगाँव की लड़ाई (नवम्बर, 1803) में अंग्रेज़ों ने रघुजी भोंसले को पराजित किया था, उसी के फलस्वरूप उक्त संधि हुई।     इस संधि के अनुसार बरार के भोंसला राजा ने अंग्रेज़ों को कटक का प्रान्त दे दिया, जिसमें बालासौर...
Continue reading »