Home » Archive by category "Hindi Stories"

Hindi Short Story, Moral Story “  Dhurt digad aur hathi ki kahani”, ” धूर्त गीदड़ और हाथी की कहानी” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

धूर्त गीदड़ और हाथी की कहानी  Dhurt digad aur hathi ki kahani      धूर्त गीदड़ और हाथी की कहानी  ब्रह्मवन में कर्पूरतिलक नामक हाथी था। उसको देखकर सब गीदड़ों ने सोचा, ‘यदि यह किसी तरह से मारा जाए तो उसकी देह से हमारा चार महीने का भोजन होगा।    उसमें से एक बूढ़े गीदड़ ने इस बात की प्रतिज्ञा की- मैं इसे बुद्धि के बल से मार दूंगा। फिर...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “ Dharti fat rahi he”, ” धरती फट रही है” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

धरती फट रही है  Dharti fat rahi he    बहुत समय पहले की बात है किसी जंगल में एक गधा बरगद के पेड़ के नीचे लेटकर आराम कर रहा था। लेटे-लेटे उसके मन में बुरे खयाल आने लगे, उसने सोचा कि यदि धरती फट गई तो मेरा क्या होगा? अभी उसने ऐसा सोचा ही था कि उसे एक जोर के धमाके की आवाज आई। वह भयभीत हो उठा और चीखने...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “  Saat pariya aur murakh shekh chilli”, ” सात परियां और मूर्ख शेख चिल्ली” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सात परियां और मूर्ख शेख चिल्ली  Saat pariya aur murakh shekh chilli    शेख चिल्ली के किस्से मूर्खता और हंसी की बातों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। अगर कोश में ‘शेखचिल्ली‘ शब्द का अर्थ देखें तो उसमें लिखा है- ‘एक कल्पित मूर्ख जिसकी मूर्खता की अनेक कहानियां जन-साधारण में प्रसिद्ध हैं।  गरीब शेख परिवार में जन्मा शेखचिल्ली धीरे-धीरे जवान हो गया। पढ़ा-लिखा तो था नहीं, अत: दिनभर कंचे खेलता।  एक...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “  Bacho ke chahete friend he Ganesh ji”, ” बच्चों के चहेते फ्रेंड हैं गणेशजी” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

बच्चों के चहेते फ्रेंड हैं गणेशजी  Bacho ke chahete friend he Ganesh ji    हिन्दू परिवारों में बच्चों को उनके बचपन से ही भगवान के पूजन और उनके रूप का ज्ञान दिया जाने लगता है। घर में दादी-नानी की कहानियां और धार्मिक कर्मकांडों की बच्चों के मानसिक विकास में अहम भूमिका है। बदलते समय के साथ यह परंपरा भी बदली है। कहानियां वही हैं, सीख वही है लेकिन उसके अंदाज...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “ Chapde samose ki atpati kahani”, ” चटपटे समोसे की अटपटी कहानी” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

चटपटे समोसे की अटपटी कहानी Chapde samose ki atpati kahani    दोस्तो, मेरा नाम समोसा है और यह मेरी कहानी है। मुझे बग्गू की मम्मी ने बड़े प्यार से अपने हाथों से बग्गू के जन्मदिन पर बनाया। मुझे बनाने के लिए सबसे पहले मेरे दोस्त आलू को उबाला गया। फिर उसमें मटर, काजू, हरा धनिया, नमक डालकर मेरा मसाला तैयार किया गया।  मैदे का आटा गूंधकर उसमें मसाला और अपना...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “  Meri mitra he ab sunder chidiya”, ” मेरी मित्र है अब सुंदर चिड़िया” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

मेरी मित्र है अब सुंदर चिड़िया  Meri mitra he ab sunder chidiya    मैं अपने घर में चिड़ियों का आना पसंद नहीं करता था। चिड़िया आती और इधर उधर गंदा करती थी। मैं पूरा दिन झाडू लेकर उनके पीछे भागता रहता था कि कहीं वे पंखे के उपर अपना घोंसला न बना लें। चिड़िया मेरे घर में बैठी होती और मैं बाहर कहीं से भी आता तो मुझे देखकर उड़...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “ Suno sabki karo man ki”, ” सुनो सबकी, करो मन की” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सुनो सबकी, करो मन की  Suno sabki karo man ki    एक बार की बात है। बहुत से मेंढक जंगल से जा रहे थे। वे सभी आपसी बातचीत में कुछ ज्यादा ही व्यस्त थे। तभी उनमें से दो मेंढक एक जगह एक गड्ढे में गिर पड़े। बाकी मेंढकों ने देखा कि उनके दो साथी बहुत गहरे गड्ढे में गिर गए हैं।  गड्ढा गहरा था और इसलिए बाकी साथियों को लगा...
Continue reading »

Hindi Short Story, Moral Story “  Budhiya aur kaddu”, ” बुढ़िया और कद्दू” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

बुढ़िया और कद्दू  Budhiya aur kaddu    बहुत पुरानी कहानी है। एक गांव में एक बुढ़िया रहती थी। उसकी बेटी की शादी उसने दूसरे गांव में की थी। अपनी बेटी से मिले बुढ़िया को बहुत दिन हो गए। एक दिन उसने सोचा कि चलो बेटी से मिलने जाती हूं। यह बात मन में सोचकर बुढ़िया ने नए-नए कपड़े, मिठाइयां और थोड़ा-बहुत सामान लिया और चल दी अपनी बेटी के गांव...
Continue reading »