Home » Posts tagged "Tenali Rama Stories"

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Hathiyo ka uphar”, ”हाथीयों का उपहार” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

हाथीयों का उपहार  Hathiyo ka uphar  राजा कॄष्णदेव राय समय-समय पर् तेनाली राम को बहुमूल्य उपहार देते रहते थे। एक बार प्रसन्न होकर राजा ने तेनाली राम को पॉच हाथी उपहार में दिए। ऐसे उपहार को पाकर तेनाली राम बहुत परेशान हो गया। निर्धन होने के कारण तेनाली राम पॉच-पॉच हाथियों के खर्चों का भार नहीं उठा सकता था क्योंकि उन्हें खिलाने के लिए बहुत से अनाज की आवश्यक्ता होती...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Swapan mahal”, ”स्वप्न महल” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

  स्वप्न महल  Swapan mahal  एक रात राजा कृष्णदेव राय ने सपने में एक बहुत ही सुंदर महल देखा, जो अधर में लटक रहा था। उसके अंदर के कमरे रंग-बिरंगे पत्थर से बने थे। उसमें रोशनी के लिए दीपक या मशालों की जरूरत नहीं थी। बस जब मन में सोचा, अपने आप प्रकाश हो जाता था और जब चाहे अँधेरा। उस महल में सुख और ऐश्वर्य के अनोखे सामान भी...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Seema ki chokasi”, ”सीमा की चौकसी” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सीमा की चौकसी  Seema ki chokasi  विजयनगर में पिछले कई दिनों से तोड़-फोड़ की घटनाएँ बढ़ती जा रही थीं। राजा कृष्णदेव राय इन घटनाओं से काफी चिंतित हो उठे। उन्होंने मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाई और इन घटनाओं को रोकने का उपाय पूछा। ‘पड़ोसी दुश्मन देश के गुप्तचर ही यह काम कर रहे हैं। हमें उनसे नर्मी से नहीं, सख्ती से निबटना चाहिए।’ सेनापति का सुझाव था। ‘सीमा पर सैनिक बढ़ा...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Santusht vyakti ke liye uphar”, ”सन्तुष्ट व्यक्ति के लिए उपहार” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सन्तुष्ट व्यक्ति के लिए उपहार  Santusht vyakti ke liye uphar    एक दिन तेनाली राम बडी प्रसन्न मुद्रा में दरबार में आया। उसने बहुत अच्छे कपडे और गहने पहन रखे थे। उसे देख् कर राजा कॄष्णदेव राय बोले, “तेनाली, आज तुम बहुत प्रसन्न दीखाई दे रहे हो। क्या बात है?” “महाराज कोई खास बात नहीं है।” तेनाली राम प्यार से बोला। “नहीं आज मुझे तुम कुछ अलग लग रहे हो।...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Lobh vinash ka karan he”, ”लोभ विनाश का कारण है” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

लोभ विनाश का कारण है  Lobh vinash ka karan he  एक नगर में एक सन्यासी रहता था। वह नगर में भिक्षा माँगकर गुजारा करता था। भिक्षा में मिले अन्न में से जो बच जाता, उसे सोते समय अपने भिक्षा-पात्र में रखकर खूँटी पर टाँग देता था। सवेरे वह इस बचे हुए अन्न को मंदिर में सफाई करने वालों में बाँट देता था। एक दिन उस मंदिर में रहने वाले चूहों...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Tenali Ram aur Rajya me utsav”, ”राज्य में उत्सव” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

राज्य में उत्सव  Tenali Ram aur Rajya me utsav  एक बार राजा कृष्णदेव राय ने अपने दरबार में कहा, “नया वर्ष आरम्भ होने वाला है। मैं चाहता हूं कि नए वर्ष पर जनता को कोई नई भेंट दी जाए, नया तोहफा दिया जाए। आप बताइए, वह भेंट क्या हो? वह तोहफा क्या हो?” महाराज की बात सुनकर सभी दरबारी सोच में पड़ गए। तभी मंत्री महोदय कुछ सोचकर बोले, “महाराज,...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Tenali Ram aur rang birange nakhun”, ”रंग-बिरंगे नाखून” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

रंग-बिरंगे नाखून  Tenali Ram aur rang birange nakhun  सभी जानते हैं कि राजा कॄष्णदेव राय पशु-पक्षियों से बहुते प्यार करते थे। एक दिन एक बहेलिया राजदरबार में आया। उसके पास पिंजरे में एक सुन्दर व रंगीन विचित्र किस्म का पक्षी था। वह राजा से बोला, “महाराज, इस सुन्दर व विचित्र पक्षी को मैंने कल जंगल से पकडा हैं। यह बहुत मीठा गाता हैं तथा तोते के समान बोल भी सकता...
Continue reading »

Tenali Rama Hindi Story, Moral Story on “Tenali Ram aur rang birangi mithaiya”, ”रंग-बिरंगी मिठाइयॉ” Hindi Short Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

रंग-बिरंगी मिठाइयॉ  Tenali Ram aur rang birangi mithaiya  बसन्त् ॠतु छाई हुई थी। राजा कॄष्णदेव राय बहुत ही प्रसन्न थे। वे तेनाली राम के साथ बाग में टहल रहे थे। वे चाह रहे थे कि एक ऐसा उत्सव मनाया जाए जिसमें उनके राज्य के सारे लोग सम्मिलित हों। पूरा राज्य उत्सव के के आनन्द में डूब जाए। इस विषय में वह तेनाली राम से भी राय लेना चाहते थे। तेनाली...
Continue reading »