Home » Posts tagged "Panchatantra Tales"

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Swajiti prem”, ”स्वजाति प्रेम” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

स्वजाति प्रेम Swajiti prem  एक वन में एक तपस्वी रहते थे। वे बहुत पहुंचे हुए ॠषि थे। उनका तपस्या बल बहुत ऊंचा था। रोज वह प्रातः आकर नदी में स्नान करते और नदी किनारे के एक पत्थर के ऊपर आसन जमाकर तपस्या करते थे। निकट ही उनकी कुटिया थी, जहां उनकी पत्नी भी रहती थी। एक दिन एक विचित्र घटना घटी। अपनी तपस्या समाप्त करने के बाद ईश्वर को प्रणाम...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Singh aur siyar”, ”सिंह और सियार” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सिंह और सियार Singh aur siyar  वर्षों पहले हिमालय की किसी कन्दरा में एक बलिष्ठ शेर रहा करता था। एक दिन वह एक भैंसे का शिकार और भक्षण कर अपनी गुफा को लौट रहा था। तभी रास्ते में उसे एक मरियल-सा सियार मिला जिसने उसे लेटकर दण्डवत् प्रणाम किया। जब शेर ने उससे ऐसा करने का कारण पूछा तो उसने कहा, “सरकार मैं आपका सेवक बनना चाहता हूँ। कुपया मुझे...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Sand aur gidad”, ”सांड और गीदड” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सांड और गीदड Sand aur gidad  एक किसान के पास एक बिगडैल सांड था। उसने कई पशु सींग मारकर घायल कर दिए। आखिर तंग आकर उसने सांड को जंगल की ओर खदेड दिया। सांड जिस जंगल में पहुंचा, वहां खूब हरी घास उगी थी। आजाद होने के बाद सांड के पास दो ही काम रह गए। खूब खाना, हुंकारना तथा पेडों के तनों में सींग फंसाकर जोर लगाना। सांड पहले...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Sache mitra”, ”सच्चे मित्र” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सच्चे मित्र Sache mitra  बहुत समय पहले की बात हैं। एक सुदंर हरे-भरे वन में चार मित्र रहते थे। उनमें से एक था चूहा, दूसरा कौआ, तीसरा हिरण और चौथा कछुआ। अलग-अलगजाति के होने के बावजूद उनमें बहुत घनिष्टता थी। चारों एक-दूसरे पर जान छिडकते थे। चारों घुल-मिलकर रहते, खूब बातें करते और खेलते। वन में एक निर्मल जल का सरोवर था, जिसमें वह कछुआ रहता था। सरोवर के तट...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Sacha Shasak”, ”सच्चा शासक” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

सच्चा शासक Sacha Shasak  कंचन वन में शेरसिंह का राज समाप्त हो चुका था पर वहां बिना राजा के स्थिति ऐसी हो गई थी जैसे जंगलराज हो जिसकी जो मर्जी वह कर रहा था। वन में अशांति, मारकाट, गंदगी, इतनी फैल गई कि वहां जानवरों का रहना मुश्किल हो गया। कुछ जानवर शेरसिंह को याद कर रहे थे कि “जब तक शेरसिंह ने राजपाट संभाला हुआ था सारे वन में...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Sangathan ki shakti”, ”संगठन की शक्ति” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

संगठन की शक्ति Sangathan ki shakti  एक वन में बहुत बडा अजगर रहता था। वह बहुत अभिमानी और अत्यंत क्रूर था। जब वह अपने बिल से निकलता तो सब जीव उससे डरकर भाग खडे होते। उसका मुंह इतनाविकराल था कि खरगोश तक को निगल जाता था। एक बार अजगर शिकार की तलाश में घूम रहा था। सारे जीव तो उसे बिल से निकलते देखकर ही भाग चुके थे। उसे कुछ...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Shararti bander”, ”शरारती बंदर” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

शरारती बंदर Shararti bander  एक समय शहर से कुछ ही दूरी पर एक मंदिर का निर्माण कैया जा रहा था। मंदिर में लकडी का काम बहुत थ इसलिए लकडी चीरने वाले बहुत से मजदूर काम पर लगे हुए थे। यहां-वहां लकडी के लठ्टे पडे हुए थे और लठ्टे व शहतीर चीरने का काम चल रहा था। सारे मजदूरों को दोपहर का भोजन करने के लिए शहर जाना पडता था, इसलिए...
Continue reading »

Hindi Panchtantra Short Story, Moral Story “Shatru ki salah”, ”शत्रु की सलाह” Hindi Motivational Story for Primary Class, Class 9, Class 10 and Class 12

शत्रु की सलाह Shatru ki salah  नदी किनारे एक विशाल पेड था। उस पेड पर बगुलों का बहुत बडा झुंड रहता था। उसी पेड के कोटर में काला नाग रहता था। जब अंडों से बच्चे निकल आते और जब वह कुछ बडे होकर मां-बाप से दूर रहने लगते, तभी वह नाग उन्हें खा जाता था। इस प्रकार वर्षो से काला नाग बगुलों के बच्चे हडपता आ रहा था। बगुले भी...
Continue reading »